मास कम्युनिकेशन में करियर ऑप्शन – यहाँ जानें कैसे बन सकते हैं पत्रकार?

मास कम्युनिकेशन में करियर - Knowledgeadda247



मास कम्युनिकेशन यानि पत्रकारिता जिसमें समय के साथ काफी बदलाव आए है। यह एक ऐसा कोर्स है जो की मीडिया और फिल्म प्रोडक्शन से जुड़ा है। इस कोर्स के अंतर्गत आप टीवी जर्नलिज़्म जैसे कि एंकरिंग, न्यूज़ रिपोर्टिंग, कंटेंट राइटिंग,वीडियो एडिटिंग ,रिपोर्टिंग एंड एंकरिंग वेब जर्नलिज़्म , डिजिटल मीडिया आदि के बारे में जानकारी हासिल कर सकते है। इस कोर्स में आपको करियर के बहुत सारे विकल्प मिल सकते हैं। इसके लिए 12 वीं पास होना के बाद किसी पत्रकारिता संस्थान से डिग्री या डिप्लोमा प्राप्त कर सकते है। उसके बाद आप अपनी रूचि के हिसाब से किसी भी सरकारी या प्राइवेट कंपनी में जॉब के लिए अप्लाई कर सकते है जहां पहले आपको ट्रेनिंग दी जाएगी, जिसके बाद कंपनी आपको जॉब प्रदान करेगी। पत्रकारिता की पढ़ाई के बाद आप न्यूज़ चैनल ,न्यूज़ वेबसाइट ,प्रोडक्शन हाउस ,प्राइवेट और सरकारी न्यूज़चैनल ,प्रसार भारती ,फिल्म मेकिंग में रोजगार के अवसर प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप मास कम्युनिकेशन से अपने करियर की शुरुआत करना चहते हैं, तो सबसे पहले आपको भाषा पर अपनी पकड़ बनानी होगी, चाहे वो हिंदी हो या अंग्रेजी। यदि आपकी इन दोनों ही भाषा में पकड़ अच्छी है तो आप किसी भी समाचार पत्र के पत्रकार, टीवी एंकर या किसी भी फिल्ड में आसानी से काम कर सकते है। इसके साथ आप किसी ऐड एजेंसी में भी काम कर सकते है। कहा जाए तो इस फील्ड में करियर है इसका कारण है कि इसमें करियर विकल्प ज्यादा है। यदि आप भी मास कम्युनिकेशन में करियर विकल्प (Career Options in Mass Communication in Hindi) के साथ ही यह जानना चाहते हैं कि पत्रकार कैसे बनें (How to be a journalist in Hindi) तो आप बिलकुल सही जगह है, क्योंकि आज हम इस लेख के जरिये आपको मास कम्युनिकेशन में करियर ऑप्शन (Career Options in Mass Communication Hindi Me) के साथ ही यह भी बताएंगे कि आप मास कम्युनिकेशन में अपने सफल करियर की शुरुआत कैसे कर सकते हैं। इन्हे भी पढ़ें – विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves) के बारे में विवरण

इन्हे भी पढ़ें – इंडियन पैरा कमांडो कैसे बनें

मास कम्युनिकेशन क्या है? | What is Mass Communication in Hindi

मास कम्युनिकेशन सूचनाओं को फैलाने और बड़ी संख्या में लोगों में जागरूकता फैलाने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। जन संचार के पाठ्यक्रम उन छात्रों को प्रशिक्षित करते हैं जो इस क्षेत्र में रुचि रखते हैं और उन्हें आवश्यक गुणों से लैस करते हैं। अक्सर, जनसंचार पत्रकारिता के साथ भ्रमित होता है। लोग ज्यादातर जनसंचार और पत्रकारिता के बीच अंतर के बारे में सोचते हैं। बुनियादी शब्दों में, पत्रकारिता बड़े पैमाने पर संचार का सबसेट है। दोनों पाठ्यक्रम सभी मामलों में एक दूसरे से अलग हैं। “जनसंचार” शब्द पत्रकारिता तक सीमित नहीं है, बल्कि यह समाचार सभा और समाचार रिपोर्टिंग, घटना प्रबंधन, फिल्म निर्देशन और उत्पादन, जनसंपर्क, कॉर्पोरेट संचार, विज्ञापन, आदि जैसे अन्य मीडिया क्षेत्रों में अपनी शाखाएं फैलाता है। इन्हे भी पढ़ें – भारत के कैबिनेट मिनिस्टर्स की अपडेटेड लिस्ट!

मास कम्युनिकेशन कोर्स (Mass Communication Course Details in Hindi) छात्रों को विभिन्न जॉब प्रोफाइल के लिए तैयार करता है जो उसके क्षेत्र में आते हैं। हाल के वर्षों में, मीडिया और जनसंचार का क्षेत्र आंशिक रूप से इंटरैक्टिव अवधारणा में विकसित हुआ है जो मानव जीवन के लगभग हर पहलू को छूता है और प्रभावित करता है। मास कम्युनिकेशन हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है और हम अब इसके बिना नहीं रह सकते हैं। समाचार पत्रों, टीवी और इंटरनेट जैसे घटकों के माध्यम से हमारे प्रत्येक जीवन में मीडिया के व्यापक प्रसार के साथ, जनसंचार का पेशा और क्षेत्र पहले जैसी लोकप्रियता प्राप्त कर रहा है।

मास कम्युनिकेशन कोर्स (Mass Communication Course ke bare me) उम्मीदवारों के लिए मास कम्युनिकेशन में कई कैरियर के अवसर प्रदान करता है जो न केवल अच्छी तरह से भुगतान करते हैं बल्कि उन्हें नौकरी से संतुष्टि प्रदान करते हैं और रचनात्मकता की अपनी अभिव्यक्ति को बढ़ाते हैं।

मास कम्युनिकेशन में करियर | Career in Mass Communication 

जनसंचार केवल पत्रकारिता तक सीमित नहीं है। बहुत हद तक मास मीडिया एक आधुनिक वास्तविकता है जो मानव जीवन के सभी पहलुओं को शामिल करती है। इसके अलावा, मास मीडिया में काम करने वाले लोगों की अवधारणा में एक बड़ा बदलाव देखा जा सकता है। मास कम्युनिकेशन में करियर न केवल उच्च भुगतान कर रहे हैं, बल्कि नौकरी की संतुष्टि और रचनात्मकता की अभिव्यक्ति का भी एक बड़ा हिस्सा है। भारत में मास कम्युनिकेशन पाठ्यक्रम निजी जन संचार महाविद्यालयों और सरकारी जनसंचार महाविद्यालयों में कराये जाते हैं। इन कॉलेजों के मास कम्युनिकेशन पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए, छात्रों को विभिन्न जन संचार प्रवेश परीक्षाओं के लिए उपस्थित होना होता है। इन्हे भी पढ़ें – इंडियन एयर फोर्स पायलट कैसे बनें

नीचे हमने विभिन्न जर्नलिज़्म कोर्सेज के बारे में विवरण प्रदान किया है, इन बैचलर डिग्री इन मास कम्युनिकेशन के बारे में विवरण जानें और अपने पत्रकार बनने के सपनों को आज से ही पूरा करने की कोशिश करें। यह भी पढ़ें – 30 दिनों में इंग्लिश सीखने के 6 टिप्स!

जर्नलिज़्म कोर्स की सूची | Journalism Course List in Hindi

बैचलर डिग्री इन मास कम्युनिकेशन

  • पीजी डिप्लोमा इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज़्म
  • एमए इन जर्नलिज़्म
  • डिप्लोमा इन जर्नलिज़्म
  • जर्नलिज़्म एंड पब्लिक रिलेशन
  • पीजी डिप्लोमा इन मास मीडिया
  • बीए इन जर्नलिज़्म
  • बीएससी इन मास कम्युनिकेशन एडवरटाइजिंग एंड जर्नलिज़्म

मास्टर डिग्री इन मास कम्युनिकेशन

  • मास्टर इन मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज़्म
  • मास्टर इन मास कम्युनिकेशन
  • एमएससी इन कम्युनिकेशन
  • एमए इन जर्नलिज़्म एंड मास कम्युनिकेशन
  • एमए इन जर्नलिज़्म
  • एमए इन ब्रॉडकास्ट जर्नलिज़्म

जर्नलिज़्म के प्रमुख संस्थान | Major Institutions of Journalism List in Hindi

यदि आप भी भारत में एक पत्रकार के रूप में अपने करियर की शुरुआत करने की योजना बना रहे हैं या मास कम्युनिकेशन में करियर बनाना चाह रहे हैं, तो यहाँ भारत के जर्नलिज़्म के प्रमुख संस्थाओं की सूची देखें और अपनी सुविधानुसार अपने किसी भी संस्थान में एडमिशन लें और अपने पत्रकार बनने के सपने को पूरा करें। यह भी पढ़ें – भारत में बैंकिंग जॉब की सूची

  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मास कम्युनिकेशन[IIMC]
  • मास मीडिया रिसर्च सेंटर ,जामिया मिलिया इस्लामिया
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी
  • एशियन कॉलेज ऑफ़ जर्नलिज़्म [ACJ]
  • माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता व संचार विश्वविधालय[MCNUJC]
  • एमिटी स्कूल ऑफ़ कम्युनिकेशन
  • सिंबायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ़ मीडिया एंड कम्युनिकेशन [SIMC]
  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी
  • पंजाब यूनिवर्सिटी
  • यूनिवर्सिटी ऑफ़ लखनऊ
  • इलाहाबाद यूनिवर्सिटी

मास कम्युनिकेशन एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया | Mass Communication Eligibility Criteria in Hindi

जो छात्र जनसंचार या पत्रकारिता के क्षेत्र में आगे बढ़ने की इच्छा रखते हैं, उन्हें जनसंचार के लिए कुछ पात्रता मानदंडों को पूरा करना पड़ता है। विभिन्न कॉलेजों में छात्रों के चयन के लिए जनसंचार योग्यता मानदंडों का एक अलग सेट है। अपनी पसंद के कॉलेज या संस्थान में सीट सुरक्षित रखने के लिए उम्मीदवारों के लिए जनसंवाद की पात्रता को पूरा करना अनिवार्य है।

  • किसी भी पत्रकारिता और मास कॉम कोर्स डिप्लोमा कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए, आपको शिक्षा के किसी भी स्ट्रीम में, अपनी शिक्षा को मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12 वीं कक्षा तक पूरा करना होगा।
  • स्नातक डिग्री पाठ्यक्रमों के लिए पात्र होने के लिए आपको कक्षा 12 में कम से कम 45% से 50% अंक प्राप्त करने होंगे।
  • हालांकि, पोस्ट-ग्रेजुएट डिग्री और डिप्लोमा पाठ्यक्रमों के लिए आपको कम से कम 50% अंकों के साथ क्रमशः स्नातक की डिग्री और डिप्लोमा प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।

मास कम्युनिकेशन सिलेक्शन प्रोसेस | Mass Communication Selection Process in Hindi

मेरिट बेस्ड चयन

मेरिट बेस्ड चयन प्रक्रिया निम्न है:

  • पंजीकरण फॉर्म संबंधित कॉलेजों या विश्वविद्यालयों की आधिकारिक वेबसाइटों पर जारी किया जाएगा। छात्रों को ऑनलाइन फॉर्म सही तरीके से भरना है।
  • कटऑफ सूची कॉलेजों और विश्वविद्यालयों द्वारा जारी की जाएगी। छात्रों को कॉलेजों और विश्वविद्यालयों द्वारा निर्धारित अपनी पात्रता के लिए सूची की जांच करनी होगी।
  • कॉलेज और विश्वविद्यालयों ने डॉक्यूमेंटेशन प्रोसेस के लिए तारीख जारी की जाएगी।
  • पाठ्यक्रम में छात्रों के अंतिम चयन के लिए कॉलेजों द्वारा डॉक्यूमेंटेशन प्रोसेस तिथि दी जाएगी। आवश्यक दस्तावेज कक्षा X और XII मार्क शीट, मूल स्नातक डिग्री, पासपोर्ट आकार के फोटो, कास्ट / श्रेणी प्रमाण पत्र (यदि कोई हो) हैं।

एंट्रेंस एग्जाम प्रोसेस 

पाठ्यक्रम में प्रवेश पाने के लिए, छात्रों को संबंधित कॉलेजों और विश्वविद्यालयों द्वारा ली गई प्रवेश परीक्षाओं को पास करना होगा। प्रवेश के लिए प्रक्रिया है:

  • पंजीकरण फॉर्म संबंधित कॉलेजों या विश्वविद्यालयों की आधिकारिक वेबसाइटों पर जारी किया जाएगा।
  • छात्रों को अंतिम तिथि से पहले ऑनलाइन पोर्टल पर पंजीकरण शुल्क जमा करना होगा।
  • एडमिट कार्ड कॉलेजों और विश्वविद्यालयों द्वारा जारी किया जाएगा।
  • परीक्षा की तारीख कॉलेजों और विश्वविद्यालयों द्वारा जारी की जाएगी।
  • परीक्षा के बाद परिणाम घोषित किया जाएगा। कुछ कॉलेज अंतिम चयन के लिए काउंसलिंग आयोजित करते हैं।
  • पाठ्यक्रम में छात्रों के अंतिम चयन के लिए कॉलेजों द्वारा प्रलेखन तिथि दी जाएगी। आवश्यक दस्तावेज कक्षा X और XII मार्कशीट, मूल स्नातक डिग्री, पासपोर्ट आकार के फोटो, कास्ट / श्रेणी प्रमाण पत्र (यदि कोई हो) हैं।



मास कम्युनिकेशन प्रवेश परीक्षा की तैयारी कैसे करें? | How to prepare for Mass Communication Entrance Examination in Hindi

संबंधित कॉलेज और विश्वविद्यालयों की प्रवेश परीक्षाओं को क्लियर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण प्रिपरेशन टिप्स यहाँ पढ़ें:

  • आपको उस पाठ्यक्रम में आयोजित विषय और प्रवेश परीक्षा के बारे में पता होना चाहिए।
  • आपको स्नातक की डिग्री में अच्छे अंक प्राप्त करने चाहिए।
  • आपको अपनी रुचि के अनुसार विषय चुनना चाहिए।
  • प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए सर्वश्रेष्ठ शीर्ष संस्थान खोजें। संस्थान चुनने की शर्तें फीस, स्थान, संकाय, संस्थान सेवाएं, साप्ताहिक परीक्षण, अध्ययन सामग्री, परिवहन, आदि हैं।
  • तैयारी से पहले आपको प्रवेश परीक्षा का सिलेबस पता होना चाहिए।
  • आपको परीक्षा पैटर्न, निहित अनुभागों के बारे में ज्ञान होना चाहिए।
  • आपको परीक्षा के अंक, अनुभाग अंक, प्रति प्रश्न अंक, नकारात्मक अंकन, आदि के बारे में पता होना चाहिए।
  • अध्ययन में समय बचाने और उपयोग करने के लिए आपको ऑनलाइन मोड के माध्यम से एक साप्ताहिक परीक्षा देनी चाहिए।
  • एक मजबूत सामान्य जागरूकता और अंग्रेजी संचार और लेखन कौशल होना चाहिए।
  • संस्थान द्वारा उपलब्ध कराई गई अध्ययन सामग्री के साथ मदद पुस्तकों से सीखें।

जन संचार विशेषज्ञ बनने के लिए आवश्यक कौशल | Skills Required to be Mass Communication Specialist in Hindi

यदि मास कम्युनिकेशन में महान ऊंचाइयों को प्राप्त करना चाहते हैं तो उम्मीदवारों को कुछ कौशल होने चाहिए। मास कम्युनिकेशन के पेशे के लिए आवश्यक कुछ महत्वपूर्ण कौशल नीचे दिए गए हैं।

  • जनसंचार के क्षेत्र में आवश्यक सबसे बुनियादी कौशल अच्छा संचार और लेखन क्षमता है।
  • उम्मीदवारों के पास उस भाषा के लिए एक स्वभाव होना चाहिए जिसमें वे बड़े पैमाने पर संचार कार्यक्रमों को आगे बढ़ाना चाहते हैं।
  • इस क्षेत्र में स्नातक नवीनतम अंतर्दृष्टि प्राप्त करने के लिए नेटवर्क और मीडिया संपर्क बनाने की क्षमता होनी चाहिए।
  • कठिन परिस्थितियों में और दबाव में काम करने की क्षमता एक और आवश्यक आवश्यकता है।

मास कम्युनिकेशन कोर्स शुल्क | Mass Communication Course Fee in Hindi

सरकारी कॉलेजों से मास कम्युनिकेशन कोर्स की फीस निजी कॉलेजों की तुलना में कम होगी। मास कम्युनिकेशन फीस भी अलग-अलग होगी। यदि आपके पाठ्यक्रम में मल्टीमीडिया शिक्षा भी शामिल है, तो संभवत यह आपको कोर मास कम्युनिकेशन और जर्नलिज्म पाठ्यक्रमों से अधिक खर्च होगा।

मास कम्युनिकेशन में करियर ऑप्शन | Career option after journalism course in Hindi

मास कम्युनिकेशन का दायरा काफी विस्तृत है इसमें रोजगार की बहुत सारी संभावनाएं है जो की कुछ इस तरह से हैं –

  • इलेक्ट्रॉनिक मीडिया (न्यूज़ चैनेल्स )
  • प्रिंट मीडिया (न्यूज़ पेपर , मेगेजीन )
  • डिजिटल मीडिया (न्यूज़ पोर्टल , बेबसाइट )
  • रेडियो
  • एडवरटाइजिंग
  • कंटेंट राइटर
  • फिल्म मेकिंग
  • मार्केटिंग
  • पब्लिक रिलेशन

मास कम्युनिकेशन में आप निम्न पदों पर कार्यरत हो सकते है.

  • टीवी न्यूज़ रिपोर्टर
  • न्यूज़ चेंनल में बतौर कैमरा मैन
  •  न्यूज़ चैनल में कंटेंट राइटर
  • न्यूज़ चैनल और प्रोडक्शन हाउस में वॉइस ओवर आर्टिस्ट
  • न्यूज़ एंकरिंग
  • न्यूज़ चैनल में वीडियो एडिटर
  • न्यूज़ एंकर
  • प्रिंट मीडिया में न्यूज़ रिपोर्टर
  • फोटोग्राफी
  • प्रिंट में कंटेंट राइटर
  • डिजिटल में कंटेंट राइटर
  • रेडिओ जॉकी
  • वीडियो जॉकी
  • स्क्रिप्ट राइटर
  • पब्लिक रिलेशन ऑफिसर
  • कॉमेडियन
  • फिल्म और टीवी सीरियल डायरेक्टर
  • फिल्म और टीवी सीरियल में कैमरामैन
  • फिल्म और टीवी सीरियल में आर्ट डायरेक्टर

मास कम्युनिकेशन में करियर के बाद वेतन | Salary after mass communication course in Hindi

इस पेशे में वेतन आपके कौशल और अनुभव पर निर्भर हो सकता है; आप एक संवाददाता या समाचार रिपोर्टर के रूप में अपना करियर शुरू कर सकते हैं, इस अवधि में वेतन रु 10,000 से रु 20,000 हो सकता है कुछ अनुभव के बाद, आप एक संपादक या एंकर के रूप में काम कर सकते हैं, इस प्रोफाइल में वेतन लगभग रु 25,000 से रु 40,000 प्रतिमाह हो सकता है। यदि आपको किसी विशेष क्षेत्र में पर्याप्त अनुभव और विशेषज्ञता मिल जाती है, तो आप आसानी से लाखों रुपए कमा सकते हैं।

हमें उम्मीद है कि मास कम्युनिकेशन में करियर पर आधारित इस लेख ने आपकी मदद की होगी यदि आप ऐसे ही अन्य लेखों को पढ़ना चाहते हैं, तो हमारे साथ बने रहें।


Related posts

Leave a Comment