सेंसेक्स और निफ्टी क्या होते हैं – SENSEX & NIFTY के बारे में यहाँ जानें!

सेंसेक्स-और-निफ्टी-क्या-होते-हैं-Knowledgeadda247

भारत में हजारों सूचीबद्ध कंपनियां हैं। और, हर एक स्टॉक को ट्रैक करना आसान नहीं है। इसलिए, बाजार सूचकांक यहां बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए, एक बाजार सूचकांक की गणना की जाती है जो पूरे बाजार के प्रतिनिधि के रूप में कार्य करता है। इसलिए, सेंसेक्स और निफ्टी दो महत्वपूर्ण संकेतक हैं जिनका उपयोग बाजार के व्यवहार को मापने के लिए किया जाता है। ये बाजार सूचकांक पोर्टफोलियो प्रदर्शन के लिए एक मानक के रूप में जाने जाते हैं। सेंसेक्स (सेंसिटिव इंडेक्स) और निफ्टी (फिफ्टी का नेट इंडेक्स) भारत का बेंचमार्क इंडेक्स है। आज हम इस लेख में आपको बतायंगे की सेंसेक्स और निफ्टी क्या होते हैं, और कैसे काम करते हैं (What are SENSEX and NIFTY, and how they work in Hindi)।

सेंसेक्स और निफ्टी क्या होते हैं (What are Sensex and Nifty in Hindi)

सेंसेक्स क्या है? (What is SENSEX in Hindi)

सेंसेक्स, सरल शब्दों में, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) पर सूचीबद्ध 30 विशिष्ट कंपनियों के शेयरों का संयुक्त मूल्य है। बीएसई समय के साथ 30 की इस सूची को संशोधित कर सकता है। इसलिए, अगर सेंसेक्स में उतार-चढ़ाव होता है, तो यह अर्थव्यवस्था पर भी असर दिखाता है। उदाहरण के लिए, यदि सेंसेक्स ऊपर जाता है तो लोग शेयर खरीदने में अधिक अंतर्ग्रही हो जाते हैं क्योंकि उनका मानना ​​है कि अर्थव्यवस्था बढ़ने जा रही है। लेकिन, अगर सेंसेक्स नीचे जाता है, तो लोग अर्थव्यवस्था में निवेश करना बंद कर देते हैं।

निफ्टी क्या है? (What is NIFTY in Hindi)

निफ्टी राष्ट्रीय फिफ्टी का संक्षिप्त रूप है। यह भारत के नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध पचास शेयरों का एक सूचकांक है। यह भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों से 50 शेयरों को कवर करता है। तो, यह आमतौर पर NIFTY 50 भी कहा जाता है। जब आप निफ्टी भविष्य खरीदते हैं, तो इसका मतलब है कि आपने 50 कंपनी के शेयरों में निवेश किया है, जो सामूहिक रूप से निफ्टी इंडेक्स का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। यह मूल रूप से 50 शेयरों में आपके निवेश का स्वचालित विविधीकरण है।

इन्हे भी पढ़ें – इनकम टैक्स रिटर्न फाइलिंग और ITR फाइल कैसे करते हैं?

क्यों बाजार मूल्य महत्वपूर्ण हैं? (Why are Market Values Important?)

कल्पना कीजिए, फलों से भरी एक टोकरी है- सेब, केले, संतरे। टोकरी के घटक- सेब, केले और संतरे हर दिन बाजारों में कारोबार करते हैं और उनकी कीमतों में उतार-चढ़ाव होता है। इसलिए, मांग और आपूर्ति असंतुलन के कारण उनकी कीमतें बढ़ जाती हैं। तो, फलों की टोकरी का मूल्य प्रत्येक घटक के वजन का योग है जो इसकी कीमत से कई गुना अधिक है।

अब, अगर इसके बजाय, आपके पास कुछ चुनिंदा अमेरिकी शेयरों की टोकरी होती है, तो टोकरी का मूल्य सभी शेयरों के मूल्य का भारित औसत होगा। इसलिए, एक सूचकांक में वृद्धि और गिरावट इन सभी कंपनियों के समग्र प्रदर्शन को दर्शाती है, और बदले में यह पूरे बाजार का प्रतिनिधि है। यह अर्थव्यवस्था का बैरोमीटर है।

इंडेक्स का निर्माण स्टॉक, बॉन्ड, मुद्राओं, अस्थिरता, कीमतों के प्रदर्शन को ट्रैक करने के लिए किया जा सकता है।

सेंसेक्स और निफ्टी में अंतर क्या है? (What is the difference between SENSEX and NIFTY in hindi)

  1. नेशनल फिफ्टी को NIFTY माना जाता है जबकि सेंसेटिव इंडेक्स को सेंसेक्स माना जाता है।
  2. निफ्टी एनएसई (नेशनल स्टॉक एक्सचेंज) से संबंधित है जबकि सेंसेक्स बीएसई (बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज) से संबंधित है।
  3. निफ्टी NSE पर भारी कारोबार करने वाली शीर्ष कंपनियों का संकेतक है जबकि सेंसेक्स बीएसई पर भारी कारोबार करने वाली शीर्ष कंपनियों का संकेतक है।
  4. सेंसेक्स निफ्टी से ज्यादा पुराना है (सेंसेक्स 1986 में मिला था जबकि निफ्टी 1995 में मिला था)।
  5. निफ्टी और सेंसेक्स के बीच मुख्य अंतर यह है कि 50 कंपनियों को निफ्टी में अनुक्रमित किया जाता है जबकि 30 कंपनियों को सेंसेक्स में अनुक्रमित किया जाता है।

इन्हे भी पढ़ें – वर्चुअल बैंकिंग क्या है और Virtual Banking के लाभ और हानि जानें

सेंसेक्स और निफ्टी में समानता क्या हैं? (What are the similarities between Sensex and Nifty in Hindi)

  1. सेंसेक्स और निफ्टी दोनों की गणना भारित औसत बाजार पूंजीकरण (weighted average market capitalization) के आधार पर की जाती है।
  2. यह भारतीय अर्थव्यवस्था के विभिन्न क्षेत्रों में प्रमुख कंपनियों को शामिल करता है।
  3. सेंसेक्स और निफ्टी दोनों Indices हैं।
  4. दोनों एक स्टॉक एक्सचेंज से संबंधित हैं।
  5. दोनों मुंबई में स्थित हैं।

सेंसेक्स और निफ्टी दोनों स्टॉक एक्सचेंज इंडेक्स हैं जो शेयर बाजार के प्रदर्शन को निर्धारित करते हैं। सरल शब्दों में, वे मार्किट मूवमेंट के स्पष्ट संकेतक हैं। इसलिए, आपको एक स्पष्ट विचार मिलता है कि क्या अधिकांश प्रमुख स्टॉक ऊपर या नीचे चले गए हैं। इसलिए, जब निफ्टी और सेंसेक्स ऊपर जाते हैं, तो आपको शेयर बाजार में एक त्वरित ख़ुशी की लहर दिखाई देती है। आप स्टॉक ट्रेडिंग गतिविधियों में एक त्वरित गति और उत्साह देखते हैं, है ना! इसके अलावा, देश के आर्थिक विकास की दिशा में बाजार सूचकांक में वृद्धि भी देखि जाती है।

हमे उम्मीद है इस लेख के माध्यम से आप यह जान चुके हैं कि सेंसेक्स और निफ्टी क्या होते हैं। यदि आपको इस लेख से सम्बंधित कोई प्रश्न है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

हमारे अन्य लेखो को भी पढ़

भारत में सहकारी बैंक

इनकम टैक्स रिटर्न फाइलिंग

वर्चुअल बैंकिंग क्या

Related posts

Leave a Comment